डीमैट अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

डीमैट अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

उपयुक्त प्रकार के डीमैट खाते को चुनने से पहले, यह समझना महत्वपूर्ण है कि डीमैट खाता क्या है और इसमें क्या शामिल है? एक डीमैट खाता या डीमैटरियलाइज्ड खाता एक प्रकार का खाता है जो एक निवेशक के कब्जे वाले शेयरों और प्रतिभूतियों की संख्या को रिकॉर्ड करता है।

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) द्वारा शेयर लेनदेन के लिए डीमैट खाते का उपयोग करना अनिवार्य है। खाताधारक एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट की मध्यस्थता से डीमैट खाते का संचालन करता है। डीमैट खाते में कुछ न्यूनतम शुल्क शामिल होते हैं जैसे डीमैट खोलने का शुल्क, वार्षिक रखरखाव शुल्क (एएमसी), संरक्षक शुल्क और लेनदेन शुल्क।

3 प्राथमिक प्रकार के डीमैट खाते

डीमैट अकाउंट मुख्य रूप से 3 प्रकार के होते हैं। डीमैट खातों का उपयोग भारतीय निवासियों के साथ-साथ अनिवासी भारतीय (एनआरआई) द्वारा भी किया जा सकता है। अपनी आवासीय स्थिति के आधार पर, निवेशक उनके लिए एक उपयुक्त डीमैट खाता चुन सकते हैं।

नियमित डीमैट खाता

नियमित डीमैट खाते केवल उन निवेशकों के लिए उपलब्ध हैं जो आवासीय भारतीय हैं। रेगुलर डीमैट खाता उन निवेशकों के लिए उपयुक्त है जो अपने दम पर शेयरों का सौदा करते हैं। नियमित डीमैट खाते निवेशकों को शेयरों का त्वरित लेनदेन करने की अनुमति देते हैं।

निवेशक अपने शेयरों को नियमित डीमैट खाते से अन्य संस्थानों में बिना किसी शुल्क के स्थानांतरित कर सकते हैं। शेयरों के सभी रिकॉर्ड नियमित डीमैट खाते में इलेक्ट्रॉनिक प्रतियों के रूप में संग्रहीत किए जाते हैं। सभी बैंकों और डिस्काउंट ब्रोकरों द्वारा नियमित डीमैट खाते की पेशकश की जाती है। उदाहरण के लिए, डिस्काउंट ब्रोकर 5पैसा शून्य एएमसी पर नियमित डीमैट खाते की निःशुल्क पेशकश करते हैं।

जांचें: डीमैट खाते का क्या उपयोग है

प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता

प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता अनिवासी भारतीयों के लिए उपलब्ध दो प्रकार के डीमैट खातों में से एक है। प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाते का चयन करने वाले अनिवासी भारतीयों को विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम के नियमों का पालन करना आवश्यक है। प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता अनिवासी भारतीयों को विदेश में धन हस्तांतरित करने की अनुमति देता है। हालांकि, नियमित डीमैट खाता धारकों के विपरीत, प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाताधारकों को अपने एनआरई (अनिवासी बाहरी) खाते को डीमैट खाते से जोड़ना आवश्यक है।

प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाते सभी बैंकों और डिस्काउंट ब्रोकरों के पास उपलब्ध हैं। धन का प्रत्यावर्तन दोनों देशों के शासन पर निर्भर करता है और इस तथ्य पर भी कि दोनों देशों की सरकार का उस व्यक्ति विशेष के लिए निधि के हस्तांतरण को रोकने का कोई इरादा नहीं है।

गैर प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता

गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता एनआरआई के लिए उपलब्ध दूसरा डीमैट खाता विकल्प है। हालांकि, गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता अनिवासी भारतीयों को विदेश में धन हस्तांतरित करने की अनुमति नहीं देता है। गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता रखने वाले निवेशकों को प्रभावी संचालन के लिए अपने एनआरओ (अनिवासी साधारण) बचत खाते को डीमैट खाते से जोड़ना आवश्यक है।

एनआरआई का दर्जा हासिल करने से पहले, नियमित डीमैट वाले निवेशक शेयरों की हानि के बिना भारत छोड़ने के बाद गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता श्रेणी में स्थानांतरित कर सकते हैं या पूरी तरह से एक नया खाता खोलने का विकल्प चुन सकते हैं।

डीमैट खाते खोलने के लिए किन दस्तावेजों की आवश्यकता होती है?

डीमैट खाता खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज इस प्रकार हैं:

  1. पहचान का प्रमाण
  2. पते का प्रमाण
  3. आय का प्रमाण
  4. बैंक खाते का प्रमाण (रद्द चेक)
  5. पैन कार्ड की कॉपी
  6. वीज़ा की प्रति (एनआरआई के लिए)
  7. फेमा घोषणा (एनआरआई के लिए)

सही प्रकार का डीमैट खाता कैसे चुनें?

डीमैट खाता क्या है, यह जानने के साथ-साथ निवेशकों को उनकी आवश्यकताओं और अपेक्षाओं के बारे में भी पता होना चाहिए। एनआरआई को यह तय करने के लिए अपनी भविष्य की निवेश योजना पर गौर करने की जरूरत है कि कौन सा एनआरआई डीमैट खाता विकल्प उनकी योजना में फिट बैठता है।

एनआरआई एकल या एकाधिक डीमैट खातों का लाभ उठा सकते हैं। अधिकांश एनआरआई के पास प्रत्यावर्तनीय डीमैट और गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट दोनों खाते हैं। हालांकि, उनके पास केवल एक एनआरआई पीआईएस (पोर्टफोलियो निवेश योजना) बैंक खाता हो सकता है।

एनआरआई भारतीय कंपनियों के स्टॉक और म्यूचुअल फंड में तभी निवेश कर सकते हैं, जब उनके पास पीआईएस सक्षम बैंक खाता हो। नियमित डीमैट खाता केवल भारतीय निवासियों के लिए है। सभी प्रकार के डीमैट खाते नॉमिनी की सुविधा प्रदान करते हैं। डीमैट खाताधारक की मृत्यु के मामले में, नामांकित व्यक्ति खाते में दर्ज शेयरों का लाभार्थी बन जाता है।

1 thought on “डीमैट अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?”

  1. Pingback: Benefits of a Demat Account In Hindi - PDFMAZA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *