Share This Book

मनोरमा / Manorama

5f1ea85529739.php

जगदीशपुर के दिवानसाहब की बेटी जितनी सुंदर थी उतनी ही गुणवती और विचारवान भी. वह मन ही मन अपने शिक्षक एवं समाज सुधारक चक्रधर को चाहने लगी. किंतु अचानक एक दिन उस पर राजा साहब की नजर पड़ गई और वह अपनी तीन पत्नियों के होते हुए भी मनोरमा पर मोहित हो गए. क्या वह मनोरमा को अपनी रानी बना सके? अथवा मनोरमा अपना प्यार पा सकी? सरल और सुबोध भाषा में लिखित ‘मनोरमा’ सभी वर्गों के पाठको के लिए पठनीय एवं संग्रहणीय है.

हमारे Telegram चैनल से जुड़े। To Get Latest Notification!

Related Books

Shares