हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Hindi Download Free PDF Read Online

Share This Post

पुस्तक का विवरण (Description of Book) :-

नाम / Nameहितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan
लेखक / Author
आकार / Size1 MB
कुल पृष्ठ / Pages27
Last UpdatedFebruary 20, 2022
भाषा / Language Hindi
श्रेणी / Category


Download हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Book Free,हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Book Download kare Hindi me , हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Kitab padhe online , Read Online हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Book Free, हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan किताब डाउनलोड करें , हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Book review, हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Review in Hindi , हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Download in English Book, Download PDF Books of   नारायण पंडित / NARAYANA PANDITA   Free,   नारायण पंडित / NARAYANA PANDITA   ki हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Book Download Kare, हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Novel PDF Download Free, हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan उपन्यास PDF Download Free, हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Novel in Hindi, हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Google Drive Link, हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Book Telegram

Download

हितोपदेश की कहानियाँ भारतीय परिवेश को ध्यान में रखकर लिखी गई उपदेशात्मक कथाएँ हैं, जिसके रचनाकार नारायण पंडित हैं। हितोपदेश की कथाएँ अत्यंत सरल, रोचक, प्रेरक और सुग्राह्य हैं। विभिन्न पशु-पक्षियों पर आधारित तार्किक कहानियाँ इसकी खास विशेषता है, जिनकी समाप्ति किसी शिक्षाप्रद बात से होती है।
इस पुस्तक में हितोपदेश की मूल लोकप्रिय कहानियों को स्थान दिया गया है। कहानियों को रोचक और पठनीय बनाने के लिए इनके मूल शीर्षक, क्रम, कथानक और विस्तार को यथोचित संपादित कर दिया गया है, लेकिन कथा की मूल भावना को जीवंत रखा गया है, जिससे पाठक पारंपरिक आस्वादन पाने से वंचित न हों।
अपनी रचना के कई सौ साल बाद भी इन कथाओं की लोकप्रियता में जरा भी कमी नहीं आई है तो केवल इनमें निहित संदेश के कारण। इनका कथानक पाठकों को अपने आस-पास घटित हुआ जान पड़ता है। यही कारण है कि वे सहज ही इनसे अपने आप को जोड़ लेते हैं। यही इन कथाओं की सबसे बड़ी खूबी है, जिसके कारण ये सदाबहार बनी हुई हैं।
मनोरंजन तथा नैतिक ज्ञान से भरपूर कहानियों की पठनीय पुस्तक।

यह पुस्तक आपको कैसी लगी? कृप्या इसे रेटिंग दें

spot_img

Related Posts

- Advertisement -spot_img
Shares