Share This Book

बिराज बहू / Biraj Bahu

5f1ea85529739.php

नीलाम्बर और पीताम्बर नाम के दो भाई हुगली जिले के सप्तग्राम में रहते थे । मुर्दे जलाने, कीर्तन करने, ढोल बजाने और गांजा पीने में नीलाम्बर जैसा आदमी उस ओर और कोई नहीं था
। उसके लम्बे और गोरे बदन में असाधारण शक्ति थी । परोपकार के लिए वह गांव में जितना विख्यात था, अपने गंवारूपन के लिए भी उतना ही कुख्यात था । लेकिन छोटा भाई एकदम दूसरी तरह का आदमी था । दुबला-पतला और ठिगने कद का । किसी के घर मरने की खबर सुनते ही शाम के बाद उसका शरीर कुछ विचित्र-सा होने लगता था । वह अपने बड़ा भाई जैसा मूर्ख नहीं था और न गंवारूपन को अपने पास फटकने देता था । तडके ही खा-पीकर बगल में बस्ता दबाकर घर से निकल पडता और हुगली की कचहरी के पश्चिम की ओर आम के एक
पेड के नीचे आसन जमा देता । दरख्वास्तें लिखकर दिनभर में जो कुछ कमाता उसे शाम होते ही घर आकर बक्स में बन्द कर देता । रात को कई बार उसकी जांच करके ही सोता था।
चंडी मंडप के एक ओर नीलाम्बर सबेरे के समय तम्बाकू पी रहा था । उसी समय उसकी अविवाहित बहिन धीरे से आकर उसके पीछे घुटने टेककर बैठ गई और उसकी पीठ में मुंह छिपाकर रोने लगी । नीलाम्बर ने हुक्का दीवार के सहारे रख दिया और एक हाथ अनुमान से बहिन के सिर पर प्यार से रखकर कहा, “सबेरे-सबेरे क्यों रो रही है बहिन?”
हरिमती ने मुंह रगडकर भाई की पीठ पर आंसू पोंछकर कहा, “भाभी ने मेरे गाल मल

हमारे Telegram चैनल से जुड़े। To Get Latest Notification!

Related Books

Shares