भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography in Hindi Book PDF Download

भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography PDF Download Free in this Post from Google Drive Link and Telegram Link , डॉ० भीमराव अम्बेडकर / Dr. Br Ambedkar, all Hindi PDF Books Download Free, भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography Summary, भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography book Review

पुस्तक का विवरण (Description of Book भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography PDF Download) :-

नाम : भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography Book PDF Download
लेखक :
आकार : 0.7 MB
कुल पृष्ठ : 8
श्रेणी : जीवनी / Biographyबाल साहित्य / Bal Sahitya
भाषा : हिंदी | Hindi
Download Link Working

[adinserter block=”1″]

जिस स्थान पर और जिन परिस्थितियों में जन्म मिला; उसके अनुकूल आचरण को ही भाग्यलेख मान लेना तो अत्यंत सहज है। ऐसा तो पशु भी करते ही हैं; परंतु मानव को यदि सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा गया है; तो इसके पीछे कारण केवल इतना ही है कि वह इस भाग्यलेख को मिटाकर अपनी इच्छाशक्ति के बूते पर अपना भाग्य स्वयं लिख सकता है; और वैसा लिख सकता है; जैसा वह चाहता है। इच्छाशक्ति की यही अदम्य दृढ़ता मिलती है; डॉ. भीम राव आंबेडकर के जीवनचरित में। अछूत-संतान से लेकर ‘भारत-रत्न’ की उपाधि तक पहुँचने तक का उनका सारा इतिहास ही कड़े संघर्ष की गाथा है।

भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography PDF Download Free in this Post from Google Drive Link and Telegram Link , डॉ० भीमराव अम्बेडकर / Dr. Br Ambedkar, all Hindi PDF Books Download Free, भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography Summary, भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography book Review

[adinserter block=”1″]

पुस्तक का कुछ अंश ( भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography PDF Download)

जिस स्थान पर और जिन परिस्थितियों में जन्म मिला, उसके अनुकूल आचरण को ही भाग्यलेख मान लेना तो अत्यंत सहज है। ऐसा तो पशु भी करते ही हैं, परंतु मानव को यदि सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा गया है, तो इसके पीछे कारण केवल इतना ही है कि वह इस भाग्यलेख को मिटाकर अपनी इच्छाशक्ति के बूते पर अपना भाग्य स्वयं लिख सकता है, और वैसा लिख सकता है, जैसा वह चाहता है इच्छाशक्ति की यही अदम्य दृढ़ता मिलती है, डॉ. भीम राव आंबेडकर के जीवनचरित में अछूत-संतान से लेकर ‘भारत रत्न’ की उपाधि तक पहुँचने तक का उनका सारा इतिहास ही कड़े संघर्ष की गाथा है।
डॉ. भीम राव आंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल, 1891 को महाराष्ट्र में महार जाति के एक साधारण परिवार में हुआ। इस जाति को महाराष्ट्र में अछूत समझा जाता था और इनके साथ शेष समाज का व्यवहार ठीक वैसा ही था जैसा कि देश के दूसरे भागों में अछूत समझी जानेवाली जातियों के साथ होता था। इनके पिता का नाम श्री रामजीराव और माता का नाम श्रीमती भीमाबाई था। अस्पृश्य समझी जाने के बावजूद महार जाति एक वीर जाति थी। इस जाति के लोग वीर योद्धा होते थे, इस कारण उन्हें सेना में आसानी से भरती कर लिया जाता था, परंतु सेना का कार्यकाल बहुत लंबा नहीं होता था। भीम राव आंबेडकर के पिता रामजीराव भी सेना में थे और सेवानिवृत्त हो चुके थे। उन्हें सेना से पचास रुपए बतौर पेंशन मिला करते थे, परंतु परिवार के भरण-पोषण के लिए यह पर्याप्त नहीं था। घर में हमेशा किसी-न-किसी वस्तु का अभाव बना ही रहता था।
वह समय ऐसा था, जब अछूतों की परछाई भी उच्च वर्ग के लोगों पर नहीं पड़ सकती थी। उन्हें रास्ते में आवाज देते हुए चलना पड़ता था। समाज के शेष वर्ग के लोगों से बात करते हुए उन्हें दूर और नीचे स्थान पर खड़ा होना पड़ता था। मंदिरों व अन्य सार्वजनिक स्थान, जैसे—कुएँ, तालाब आदि से उन्हें दूर रखा जाता था। उन्हें अपने लिए पानी की व्यवस्था अलग से करनी पड़ती थी। उनकी बस्ती भी प्रायः गाँव के अंत में अलग-थलग होती थी। उनके बच्चों को किसी विद्यालय में प्रवेश नहीं मिलता था।
उनके लिए केवल कुछ ऐसे कार्य निश्चित थे, जिन्हें समाज के दूसरे वर्ग के लोग नहीं करते थे। देश के कई स्थानों पर उनकी स्थिति अत्यंत शोचनीय ही नहीं, वरन् नारकीय बनी हुई थी।
जातीय भेदभावों के अलावा पूरे देश में एक गंभीर समस्या और भी थी— अंग्रेजों का अत्याचार। पूरा देश गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था।

[adinserter block=”1″]

It is very easy to consider the favorable conduct of the place and the circumstances under which one was born as a fate. Even animals do this, but if human has been called the best creature, then the reason behind this is only that he can write his own destiny on the basis of his willpower by erasing this destiny, and he can write like that. This indomitable firmness of will is found as he wants, in Dr. Bhim Rao Ambedkar’s biography, from untouchable-child to reaching the भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography of ‘Bharat Ratna’, his whole history is a saga of hard struggle.
Dr. Bhim Rao Ambedkar was born on April 14, 1891 in Maharashtra in a simple family of Mahar caste. This caste was considered untouchable in Maharashtra and the treatment of the rest of the society with them was exactly the same as it was with castes considered untouchable in other parts of the country. His father’s name was Shri Ramjirao and mother’s name was Mrs. Bhimabai. Mahar caste despite being considered untouchable

भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography PDF Download Free in this Post from Google Drive Link and Telegram Link , डॉ० भीमराव अम्बेडकर / Dr. Br Ambedkar, all Hindi PDF Books Download Free, भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography Summary, भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography book Review

[adinserter block=”1″]

हमने भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography PDF Book Free में डाउनलोड करने के लिए Google Drive की link नीचे दिया है , जहाँ से आप आसानी से PDF अपने मोबाइल और कंप्यूटर में Save कर सकते है। इस क़िताब का साइज 0.7 MB है और कुल पेजों की संख्या 8 है। इस PDF की भाषा हिंदी है। इस पुस्तक के लेखक डॉ० भीमराव अम्बेडकर / Dr. Br Ambedkar, हैं। यह बिलकुल मुफ्त है और आपको इसे डाउनलोड करने के लिए कोई भी चार्ज नहीं देना होगा। यह किताब PDF में अच्छी quality में है जिससे आपको पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। आशा करते है कि आपको हमारी यह कोशिश पसंद आएगी और आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography की PDF को जरूर शेयर करेंगे।

Q. भीमराव आंबेडकर एक जीवनी | Dr. Bhimrao Ambedkar Biography किताब के लेखक कौन है?
 

Answer.
[adinserter block=”1″]

Download
[adinserter block=”1″]

Read Online
[adinserter block=”1″]

 


आप इस किताब को 5 Stars में कितने Star देंगे? कृपया नीचे Rating देकर अपनी पसंद/नापसंदगी ज़ाहिर करें। साथ ही कमेंट करके जरूर बताएँ कि आपको यह किताब कैसी लगी?

4.8/5 - (2190 votes)

Leave a Comment